हरियाली तीज की कहानी | हरियाली तीज : पढ़ें पौराणिक व्रत कथा

hariyali teej ki kahanihariyali teej ki kahani

Hariyali Teej Ki Kahani: हरियाली तीज एक धार्मिक और सांस्कृतिक त्योहार है जो भारत में हिंदू कैलेंडर के आधार पर बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। यह त्योहार सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को पड़ता है, जिसे तीज तीजा और हरितालिका तीज के नाम से भी जाना जाता है। हरियाली तीज का त्योहार भगवान शिव और पार्वती की प्रेम कथा से जुड़ा हुआ है और इसे भारतीय संस्कृति में महिलाओं के समर्पण और प्रेम का प्रतीक माना जाता है।

What is Hariyali Teej?

हरियाली तीज एक प्रसिद्ध व्रत त्योहार है जिसे भारत में विशेष रूप से उत्तर भारतीय राज्यों में धूमधाम से मनाया जाता है। यह त्योहार सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को पड़ता है, जिसे तीज तीजा और हरितालिका तीज के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन महिलाएं विशेष ध्यान रखकर व्रत रखती हैं और देवी पार्वती और भगवान शिव की प्रेम कथा को सुनती हैं। Hariyali Teej Ki Kahani.

The Legend of Hariyali Teej

Story of Goddess Parvati

एक प्राचीन कथा के अनुसार, भगवान शिव और पार्वती की प्रेम कहानी इस त्योहार की मूल निगाहबंध की जाती है। भगवान शिव की धरती पर तपस्या करते हुए अनेक वर्षों तक बित जाने के कारण पार्वती ने तपस्या और प्रेम की शक्ति से उन्हें प्रसन्न करने का उद्देश्य बनाया। उन्होंने तीज व्रत का अवधारणा किया और भगवान शिव को प्राप्त करने के लिए उसका व्रत रखा। उनके प्रेम और समर्पण के बाद, भगवान शिव ने उनके प्रसन्न होने पर उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकार किया और तब से हरियाली तीज का त्योहार मनाया जाता है।

The Fast and Rituals

हरियाली तीज के दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं, जिसमें वे पूरे दिन भोजन और पानी से बचती हैं। वे पार्वती देवी के व्रत कथा को सुनती हैं और उनकी पूजा अर्चना करती हैं। त्योहार के इस विशेष मौके पर वे हरिद्वार, उज्जैन, और पुष्कर में बाँधे जाने वाले मेलों में भी जाती हैं और वहां अपनी पूजा-अर्चना करती हैं।

Celebrations and Traditions

इस अवसर पर महिलाएं खास रूप से तैयारी करती हैं और श्रृंगार करती हैं। उन्हें हरा-भरा वस्त्र पहना जाता है और विशेष रूप से सुहागिन महिलाएं मेहंदी और सिंदूर लगाती हैं। वे अपने बालों में फूल और गजरे सजाती हैं और खास तौर पर खिलौने खरीदती हैं जो उन्हें पूजा में उपयोग करने के लिए रखा जाता है। त्योहार के इस दिन भव्य मेले और जागराते भी आयोजित किए जाते हैं जिनमें लोग धार्मिक गानों और भजनों में खोए जाते हैं।

Traditional Attire and Jewelry

महिलाएं हरियाली तीज के दिन भारतीय संस्कृति के परंपरागत पोशाक पहनती हैं। उन्हें लहंगा और चोली, साड़ी या सूट सलवार दिखाई देते हैं। इस त्योहार के लिए खास गहने जैसे की मांग तिका, नथ, हाथों में बाजुबंद, गहने, और चूड़ियाँ पहने जाते हैं।

Preparations and Decorations

त्योहार के इस दिन घरों में भी खास तैयारी की जाती है। घरों को सजाया जाता है और रंग-बिरंगे फूलों, पत्तों, और टोरणों से सजाया जाता है।

Sweets and Delicacies

त्योहार के दिन मिठाईयों का विशेष तौर पर इस्तेमाल होता है। घरों में पेढ़े, गुलाब जामुन, जलेबी, लड्डू, और कई और मिठाईयाँ बनाई जाती हैं जो खासकर इस त्योहार के लिए तैयार की जाती हैं।

Fairs and Melas

हरियाली तीज के अवसर पर अनेक भव्य मेले और जागराते भी आयोजित किए जाते हैं। ये मेले लोगों को मनोरंजन, खिलौने खरीदने, और स्थानीय वस्त्र-गहनों का विक्रय करने का मौका प्रदान करते हैं।

The Significance of Hariyali Teej

हरियाली तीज त्योहार का महत्व भारतीय संस्कृति में काफी अधिक है। इस त्योहार के माध्यम से महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं और परिवार की खुशियों में खुशी और समृद्धि की प्राप्ति की शुभकामनाएं देती हैं। यह त्योहार भगवान शिव और पार्वती के प्रेम के उत्साहपूर्वक स्मरण करने का मौका प्रदान करता है और विवाहित जीवन में खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।

Regional Variations

भारत के विभिन्न भागों में हरियाली तीज के अलग-अलग प्रकार के रूपांतरण होते हैं। उत्तर भारतीय राज्यों में यह त्योहार खास धूमधाम से मनाया जाता है और वहां परंपरागत गीत-संगीत और नृत्य आयोजित किए जाते हैं। दक्षिण भारतीय राज्यों में भी इस त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है और वहां विशेष रूप से अनेक मेले और जागराते आयोजित किए जाते हैं।

Hariyali Teej in Modern Times

आधुनिक युग में हरियाली तीज का त्योहार भी नए अंदाज में मनाया जाता है। इंटरनेट और सोशल मीडिया के जमाने में, लोग अपने दिल की ख्वाहिशों को बयां करने के लिए ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करते हैं। हरियाली तीज के दिन लोग अपने दोस्तों और परिवार से मिलने, उन्हें शुभकामनाएं देने और विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्मों पर अपनी खुशियों को साझा करने का मौका देखते हैं।

Social Media and Online Celebrations

विशेष रूप से कोविड-19 महामारी के कारण, लोग अधिकतर अपने घरों में ही इस त्योहार का जश्न मनाते हैं। सोशल मीडिया पर लोग विभिन्न हैशटैग का उपयोग करते हैं और अपनी खुशियों को दुनिया के साथ साझा करते हैं।

Empowerment of Women

हरियाली तीज के त्योहार में महिलाओं के समर्पण और प्रेम की भावना को मजबूत किया जाता है। यह त्योहार महिलाओं को सशक्तिकरण का मौका प्रदान करता है और उन्हें अपने परिवार का सम्मान प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

Conclusion

Hariyali Teej Ki Kahani: भारतीय संस्कृति में हरियाली तीज एक महत्वपूर्ण और आनंददायक त्योहार है जो महिलाओं के प्रेम और समर्पण का प्रतीक है। यह त्योहार भगवान शिव और पार्वती के प्रेम की कहानी को याद करने का मौका देता है और लोगों को एक-दूसरे के साथ प्रेम और समर्पण की महत्वपूर्ण भावना से जोड़ता है।

FAQs: Hariyali Teej Ki Kahani

  1. क्या हरियाली तीज एक महिलाओं का त्योहार है?

    जी हां, हरियाली तीज भारतीय संस्कृति में महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार है।

  2. हरियाली तीज को कौन-कौन स्थानों पर धूमधाम से मनाया जाता है?

    हरियाली तीज को भारत के उत्तर भागीय राज्यों और दक्षिण भारतीय राज्यों में खास धूमधाम से मनाया जाता है।

  3. क्या तीज व्रत के दिन में खाने-पीने की विधि होती है?

    हां, तीज व्रत के दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं, जिसमें वे पूरे दिन भोजन और पानी से बचती हैं।

  4. क्या हरियाली तीज के दिन किसी विशेष पूजा-अर्चना का आयोजन होता है?

    हां, हरियाली तीज के दिन महिलाएं पार्वती देवी के व्रत कथा को सुनती हैं और उनकी पूजा-अर्चना करती हैं।

  5. हरियाली तीज के दिन कौन-कौन सी मिठाईयाँ बनाई जाती हैं?

    तीज के दिन घरों में पेढ़े, गुलाब जामुन, जलेबी, लड्डू, और कई और मिठाईयाँ बनाई जाती हैं जो खासकर इस त्योहार के लिए तैयार की जाती है |

By Chand Patel

Meet Chand Patel, a multifaceted individual with a passion for festivals, writing, and sharing information with the world. As the talented administrator of the popular website FestivalTimings.com, Chand has made it his mission to provide accurate and up-to-date information about various festivals from around the globe. Beyond his role as an administrator, he is renowned for his exceptional skills as an article writer and blogger, captivating readers with his engaging content.