हरियाली तीज की पूजा कैसे करे | हरियाली तीज की पूजा विधि

hariyali teej ki pooja kaise karehariyali teej ki pooja kaise kare

Hariyali Teej Ki Pooja Kaise Kare: भारतीय धरोहर में त्योहारों का विशेष महत्व है। वर्ष भर में आए विभिन्न पर्वों में से एक है “हरियाली तीज” जो विशेष रूप से उत्तर भारतीय राज्यों में मनाया जाता है। यह पर्व व्रत एवं पूजा के रूप में बहुत महत्वपूर्ण है और मुख्य रूप से सुहागिन महिलाओं द्वारा धूमधाम से मनाया जाता है। इस लेख में, हम आपको हरियाली तीज की पूजा कैसे करें, इसके व्रत विधि और महत्व के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेंगे।

तीज त्योहार का महत्व (Importance of Teej Festival)

धार्मिक दृष्टिकोण से, हरियाली तीज व्रत भगवान शिव और पार्वती के उत्साहवंत भक्तों द्वारा मनाया जाता है। इसे सुहागिन महिलाएं अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए भगवान से व्रत रखकर प्रार्थना करती हैं। यह व्रत शादीशुदा स्त्रियों के गौरव और सौभाग्य को संबोधित करता है और उन्हें उनके पति के द्वारा सदैव सुरक्षित रखने की कामना करता है। Hariyali Teej Ki Pooja Kaise Kare.

हरियाली तीज की पूजा का विधान (Rituals of Hariyali Teej Puja)

1. स्नान (Holy Bath)

हरियाली तीज के दिन, सुबह जल्दी उठकर शिवालय या पार्वती माता के मंदिर जाएं। वहां पहुंचकर स्नान करें और शुद्ध होकर व्रत की दृढ़ता से संकल्प लें।

2. व्रत कथा का पाठ (Reading the Vrat Katha)

पूजा की शुरुआत में, हरियाली तीज की व्रत कथा का पाठ करें। यह कथा व्रत के महत्व को समझने में मदद करती है और भगवान की कृपा प्राप्त करने के लिए साध्य होती है।

3. भोग (Offerings)

पूजा में भगवान को फल, फूल, मिठाई, धूप, दीप, इलायची, बड़ी इलायची, घी, चावल, गन्ने का रस, गुड़ और दूध के भोग चढ़ाएं।

4. मांगलिक दर्शन (Visit to Married Women)

व्रत के दिन अपनी सहेलियों और रिश्तेदारों के साथ मिलकर मांगलिक दर्शन करें।

5. कथा के बाद भजन-कीर्तन (Bhajan-Kirtan after Katha)

व्रत कथा के पाठ के बाद, भगवान की भक्ति के लिए भजन-कीर्तन का आयोजन करें।

Conclusion

Hariyali Teej Ki Pooja Kaise Kare: हरियाली तीज के व्रत को अर्चना और श्रद्धा भाव से पूरा करने के बाद, व्रती महिला भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करती हैं और अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं। इस पर्व के दिन महिलाएं हरियाली वस्त्र पहनती हैं और सुंदर गहने धारण करती हैं।

अत्यंत धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व वाले हरियाली तीज व्रत के दिन, सभी महिलाएं एकजुट होकर एक-दूसरे के साथ भगवान की पूजा-अर्चना करती हैं और इस प्रकार इस विशेष दिन का आनंद लेती हैं।

FAQs: Hariyali Teej Ki Pooja Kaise Kare

  1. हरियाली तीज क्यों मनाई जाती है?

    हरियाली तीज को भगवान शिव और पार्वती के उत्साहवंत भक्तों द्वारा मनाया जाता है। इसे सुहागिन महिलाएं अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए व्रत रखकर प्रार्थना करती हैं।

  2. हरियाली तीज की पूजा कब करें?

    हरियाली तीज का व्रत श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। यह व्रत सूर्योदय के बाद सुबह से लेकर सूर्यास्त के वक्त तक रखा जाता है।

  3. हरियाली तीज के व्रत में क्या भोजन करना चाहिए?

    हरियाली तीज के व्रत में सात्विक भोजन करना चाहिए जैसे फल, सब्जियां, दाल, चावल, और मिठाई। व्रत के दौरान अनाज, प्याज, लहसुन, गोश्त आदि का उपयोग नहीं करना चाहिए।

  4. हरियाली तीज का इतिहास क्या है?

    हरियाली तीज का महत्वपूर्ण इतिहास व्रत कथाओं में मिलता है। यह व्रत भगवान शिव और पार्वती के पुत्र कार्तिकेय के विवाह के अवसर पर उनके साथी गणपति, भगवान विष्णु, और भगवान ब्रह्मा के साथ मनाया गया था।

  5. व्रत में सबसे महत्वपूर्ण क्या है?

    हरियाली तीज के व्रत में सबसे महत्वपूर्ण विधि और नियमों का पालन करना है और भगवान की भक्ति और श्रद्धा के साथ पूजा-अर्चना करना है। व्रती महिला को विशेष तैयारी के साथ व्रत रखना चाहिए और समाज के नेतृत्व के साथ सामूहिक भजन-कीर्तन का आयोजन करना चाहिए.

By Chand Patel

Meet Chand Patel, a multifaceted individual with a passion for festivals, writing, and sharing information with the world. As the talented administrator of the popular website FestivalTimings.com, Chand has made it his mission to provide accurate and up-to-date information about various festivals from around the globe. Beyond his role as an administrator, he is renowned for his exceptional skills as an article writer and blogger, captivating readers with his engaging content.